किस ख़त में रखकर भेजूँ, अपने इंतजार को – Hindi Shayari

183

किस ख़त में रखकर भेजूँ, अपने इंतजार को,
बेजुबां है इश्क़, ढूंढता है ख़ामोशी से तुझे..

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3