जब कभी सिमटोगे तुम – Hindi Shayari

130

जब कभी सिमटोगे तुम… मेरी इन बाहों में आकर,
मोहब्बत की दास्तां मैं नहीं मेरी धड़कने सुनाएंगी।

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3