मत इतरा मेरी मोहब्बत पाकर पगली – Shayari

261

मत इतरा मेरी मोहब्बत पाकर पगली…
तुझे क्या पता तेरा नम्बर कितनों के बाद आया है।

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3