ये नींद का ना, कुछ समझ नहीं आता है – Hindi Shayari

0 108

ये नींद का ना, कुछ समझ नहीं आता है ,
कभी सैकड़ों करवटें बदल कर भी रात नहीं कटती ,
कभी पलक झपकते ही सवेरा हो जाता है।