रहने दे मुझे इन अंधेरों में ग़ालिब – Hindi Shayari

0 164

रहने दे मुझे इन अंधेरों में ग़ालिब,
कमबख़्त रौशनी में अपनो के असली चहरे नज़र आ जाते है !!😢