हजारों उलझनें राहों में – Urdu Shayari

207

हजारों उलझनें राहों में और कोशिशें बेहिसाब
इसी का नाम है ज़िन्दगी, चलते रहिये जनाब….

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3