हजारों उलझनें राहों में – Urdu Shayari

हजारों उलझनें राहों में और कोशिशें बेहिसाब
इसी का नाम है ज़िन्दगी, चलते रहिये जनाब….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *