हर पल नजरे उनको देखना चाहे

248

हर पल नजरे उनको देखना चाहे तो आँखों का क्या कसूर,
हर पल खुशबू उनकी आये तो साँसों का क्या कसूर,
वैसे तो सपने पूछकर नहीं आते,
पर सपने ही उनके आये तो रातो का क्या कसूर ||
❤❤❤❤❤❤❤

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3