हर रोज गिरकर भी मुक्कमल खड़े हैं

0 297

हर रोज गिरकर भी मुक्कमल खड़े हैं
ऐ ज़िन्दगी देख मेरे हौसले तुझसे भी बड़े हैं .