हर रोज गिरकर भी मुक्कमल खड़े हैं

0 452

हर रोज गिरकर भी मुक्कमल खड़े हैं
ऐ ज़िन्दगी देख मेरे हौसले तुझसे भी बड़े हैं .

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Download Image

Donalod Image
 Please wait while your url is generating... 3