हर रोज गिरकर भी मुक्कमल खड़े हैं

हर रोज गिरकर भी मुक्कमल खड़े हैं
ऐ ज़िन्दगी देख मेरे हौसले तुझसे भी बड़े हैं .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *