एक हसरत थी की कभी वो भी हमे मनाये

0 120

एक हसरत थी की कभी वो भी हमे मनाये..
पर ये कम्ब्खत दिल कभी उनसे रूठा ही नही।😢 💔