नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की

177

नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की,
जलाकर क्यूँ बुझाते हो आग चाहत की,
सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे,
हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3