Category - Hindi Love Shayari

तू हज़ार बार भी रूठे

तू हज़ार बार भी रूठे | Shayari DIary

तू हज़ार बार भी रूठे
तो मना लूँगा तुझे
मगर देख मोहब्बत में
शामिल कोई दूसरा ना हो ||

जो तुम्हारी परवाह करते हैं – Ignore Shayari

जो तुम्हारी परवाह करते हैं - Ignore Shayari , Hindi shayari, loe shayari in hindi

उन लोगों को कभी नजरअंदाज मत करो
जो तुम्हारी परवाह करते हैं,

और उन लोगों की कभी परवाह मत करो
जो तुम्हे नजरअंदाज करते हैं ||

unhone to machhaliyon ko bhi sharabi Bana diya – Hindi Love Shayari

Unhone hontho se chhu kar dariya ka paani gulaabi kar diya,
Hame chhodo, unhone to machhaliyon ko bhi sharabi Bana diya..

मैंने तो सिर्फ तुझ से मोहब्बत करने की दुआ मांगी है

मैंने तो सिर्फ तुझ से मोहब्बत करने की दुआ मांगी है,
मैंने तो हर दुआ में सिर्फ तेरी वफ़ा मांगी है,
ये ज़माना लाख जले हमारी मोहब्बत से,
मैंने तो सिर्फ तुझसे मोहब्बत करने की सजा मांगी है।

प्यार का बदला कभी चुका न सकेंगे

प्यार का बदला कभी चुका न सकेंगे
चाह कर भी आपको भुला न सकेंगे
तुम ही हो मेरे लबों की हंसी तुम से बिछड़े तो फिर मुस्कुरा न सकेंगे !!

पहला-मै इधर हूँ तू किधर है

पहला-मै इधर हूँ तू किधर है
दूसरा-मै वहीं हूँ तू जिधर है

खुदा प्यार सबको देता है

“खुदा प्यार सबको देता है,
दिल भी सबको देता है,
दिल में बसने वाला भी सबको देता है,
पर,
दिल को समझने वाला नसीब वालो को ही देता है…!!

प्यार का बदला कभी चुका न सकेंगे

प्यार का बदला कभी चुका न सकेंगे चाह कर भी आपको भुला न सकेंगे
तुम ही हो मेरे लबों की हंसी तुम से बिछड़े तो फिर मुस्कुरा न सकेंगे !!

माना कि फूल बड़े खूबसूरत होते हैं

माना कि फूल बड़े खूबसूरत होते हैं
पर कुछ लोग फूलों से भी खूबसूरत होते हैं
जैसे कि आप मुझे ही देख लो..!!

भेज दूंगा सब तुम्हे मैं जो प्यार का अहसास है

भेज दूंगा सब तुम्हे मैं जो प्यार का अहसास है।
शब्द में सिमटी हुई ये बस तुम्हारी प्यास है।।

जान-ए-तन्हा पे गुजर जायें हजारो सदमें

जान-ए-तन्हा पे गुजर जायें हजारो सदमें,
आँख से अश्क रवाँ हों ये ज़रूरी तो नहीं

बड़े प्यार से पराया कर देतें है

बड़े प्यार से पराया कर देतें है
वो लोग जो प्यार से भी प्यारे होते हैं….

Roj Saahil Se Samandar Ka Najara Na Karo

Roj Saahil Se Samandar Ka Najara Na Karo,
Apni Soorat Ko Shabo-Roz Nihara Na Karo,
Aao Dekho Meri Najron Mein Utar Kar Khud Ko,
Aayina Hoon Main Tera Mujhse Kinara Na Karo.

रोज साहिल से समंदर का नजारा न करो,
अपनी सूरत को शबो-रोज निहारा न करो,
आओ देखो मेरी नजरों में उतर कर खुद को,
आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा न करो।