मेरा दिल भी उस मातम से सेहर जाता है

0 133

मेरा दिल भी उस मातम से सेहर जाता है
हां मेरी आँखों में वो मंज़र नजर आता है ….
बददुआ मेरी ये लाचार हुकूमत न रहे
शर्म आती है इसपे, दोगली सियासत न रहे
मुझे उन दुधमुहीं जिंदगानियों का ख्याल आता है
हां मेरी आँखों में वो मंज़र नजर आता है।

उजाला करने से पहले ही दिये बुझते …