मेरी ज़िन्दगी भी उस कब्रिस्तान की तरह है

मेरी ज़िन्दगी भी उस कब्रिस्तान की तरह है
जहां लोग तो बहुत है पर अपना कोई नहीं

Meri Zindagi Bhi Us Khabristan Ki Tarha Hai
Jahan Log Toh Bhot Hai Par Apna Koi Nahi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share